aapke-shishu-ka -vajan-badhane-ke-liye-7-bhojan

अपने शिशु के लिए भोजन का चयन करना अपने आप में एक चुनौती है। खासकर जैसे नन्हे बच्चे सख्त भोजन नहीं खाते और उनकी ज्यादातर खुराक द्रव रूप में होती हैं। इन सब शर्तो की वजह से, वह भोजन ढूँढना जो आपके बच्चे का वजन बढ़ाए, ज्यादा कठिन हो जाता है। आपके बच्चे के वजन बढ़ने से उसकी रोग प्रतिरोधक शक्ति भी तेजी से बढ़ती है। तो यहाँ पर 7 ऐसे भोजन है जो आपके बच्चे का वजन बढ़ाने में मदद कर सकते हैं ।

1. माँ का दूध

ज़ाहिर है कि लिस्ट में सबसे आम चीज़, माँ का दूध है। 6 महीने से कम उम्र के बच्चों को माँ का दूध ही पिलाना चाहिए क्योंकि इससे ज्यादा पौष्टिक और सेहतमंद और कुछ भी नहीं। माँ के दूध की उत्तमता को बढ़ाने के लिए उन्हें अपने आहार में बादाम, चने और दालें शामिल करनी पड़ेंगे। 6 महीने के बाद आपका काम आसान हो जाता है क्योंकि आप अपने बच्चे को अर्द्ध ठोस और ठोस भोजन माँ के दूध के साथ खिला सकते हैं।

2. केले

केले में पोटैशियम, कार्बोहाइड्रेट भरपूर मात्रा में होते हैं और इसमें सौ कैलोरी से भी अधिक है। यह ऊर्जा का बहुत बढ़िया साधन है और आपका बच्चा इसे खूब आनंद उठाकर खाएगा। यह ऐसा आहार है जो कभी भी लिया जा सकता है। जैसे भी आपके बच्चे को पसंद हो, आप उसे मिल्कशेक, केक, केले की मिठाई या फिर प्राकृतिक रूप ही में केला खिला सकते हैं।

3.  घी

घी भी एक ऐसा भोजन है जो आपके बच्चे का वजन बढ़ा सकता है। इसमें चर्बी और पोषण की मात्रा अधिक हैं। शुरूआत देसी या आयुर्वेदिक घी के उपयोग से करें। यह काफी व्यक्तिगत भोजन है और अगर आपके बच्चे को एलर्जी या चकत्ते की वजह से जलन महसूस हो, तो इसका उपयोग बंद कर दें। आप इसे किसी और कंपनी के घी या घर में बने घी से बदल सकते हैं। घी कई बार भूख को नष्ट कर देता है, इसलिए इसका प्रयोग सीमित मात्रा में करें। क्योंकि आपका बच्चा किसी भी तरह से आपको नहीं बता सकता, तो माँ होने के नाते आप ही तय कर सकती हैं कि आपके बच्चे के लिए घी की सही मात्रा क्या है।

4.  क्रीम वाली दही

यह आपके बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए बहुत ही सेहतमंद चुनाव हैं क्योंकि यह कैल्शियम, चर्बी और पोषण का अच्छा साधन है। प्रारूपित होने के कारण यह आपके बच्चे के लिए सुरक्षित हैं क्योंकि कई चिकित्सक बच्चों को शुरूआती पड़ाव में गाय का दूध ना पिलाने का सुझाव देते हैं। दही से रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है और यह बदहजमी और दस्त में भी लाभदायक है। फ़्लेवर की हुई दही का उपयोग ना करें क्योंकि उसमें चीनी की मात्रा अधिक होती है।

5.  दाल

दालें प्रोटीन, कैल्शियम और सेहतमंद असंतृप्त अम्ल का बढ़िया साधन है। दाल को दही के साथ ना मिलाएँ क्योंकि यह उससे उसका पोषण कम होता हैं। इसे इडली के रूप में परोसे क्योंकि यह एक सेहतमंद नाशता भी है। एक साधारण खिचड़ी आपके बच्चे पर्याप्त भोजन का काम करती हैं। आप स्वाद के लिए अलग अलग सब्जीयों का प्रयोग कर सकते हैं।

6. आलू

आलू एक अत्याधिक कलंफ़दार भोजन है जो जल्दी वजन बढ़ाने के लिए उपयोगी है। यह भारतीय व्यंजन का एक मुख्य हिस्सा है, इसलिए बिना किसी दिक्कत के यह आपके बच्चे के भोजन में उपयोग किया जा सकता है। आलू आसानी से उबालकर पीसा जा सकते हैं और इनका पाचन भी आसान है इसलिए इसके सेवन में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। आलू को तल के फ्रैंच फ्राई मत बनाएँ, क्योंकि यह सेहतमंद विकल्प नहीं है। जमे हुए व्यंजन जैसे “स्माइली” संरक्षक से भरपूर होते है इसलिए इससे परहेज रखें।

7. जई और ख़मीर

जई रूक्षांश से भरपूर है और यह भोजन के सेहतमंद विकल्प है। इन्हें पचाना आसान है और यह कब्ज से लड़ने में लाभदायक है। यह खिचड़ी या धान्य के रूप में परोसा जा सकता है। इसे मिक्सर में डालकर आप डोसा की लपसी बनाने की कोशिश कर सकते हैं। ख़मीर के साथ भी ऐसा ही है। यह लोहे, प्रोटीन, रूक्षांश और जरूरी विटामिन से भरपूर है। यह ख़मीर लड्डू, डोसा, बिस्कुट आदि की तरह परोसा जाता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: