garbhawastha-ke-baare-mein-10-myth-jo-poori-tarah-sach-hai

आप सभी जानते हैं कि गर्भावस्था से संबंधित कोई जानकारी ना मिले तो वो चुनौतीपूर्ण हो सकता है | आपको संभवतः बहुत से लोग मिलते हैं जो आपको कुछ न कुछ सलाह देते हैं, जैसे कि आपकी त्वचा का रंग आपके बच्चे का लिंग बता सकता है (एक बहुत ही सामान्य गर्भावस्था मिथ) आदि | यहां उन कुछ मिथकों को डिकोड किया गया है जो आपको चौंका देंगे, वास्तव में आप जितना सोचते वे वे इतने विसंगत नहीं है।

यहां कुछ गर्भावस्था मिथ हैं जो वास्तव में सही हैं।

1. स्वाद और वरीयताएँ

आप सभी के लिए जिन्हें लौकी पसंद है ये सुनकर खुश होगी | वैज्ञानिक रूप से, यह पाया गया है कि आप प्रेगनेंसी के समय जो खाती हैं, आपका बच्चा बड़ा होकर उसे पसंद करेगा। यह इसलिए है क्योंकि यह भोजन आम्नियोटिक फ्लूईड में जाता है जो आपका बच्चा ग्रहण करता है। यह स्तन के दूध को भी प्रभावित करता है। इसलिये अपने बच्चे के लिए सही भोजन को पसंद करें!

2. बाल और छाती का जलना 

एक लोकप्रिय मिथ यह है कि जिन महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान बहुत अधिक छाती में जलन होती है, वे आमतौर पर खूब सारे बालों वाले बच्चे को जन्म देती हैं| एक अध्ययन में, वास्तव में निष्कर्ष निकला है कि यह वास्तविकता में सही है कि जिन मांओं को छाती में जलन होती है वो खूब सारे बालों वाले बच्चे को जन्म देती हैं |

3. बर्निन ‘अप

एक और लोकप्रिय मिथ यह है कि प्रेग्नेंट होने पर आपको गर्म स्नान नहीं करना चाहिए। यह सच है। इसके पीछे साइंस का तर्क यह है कि यह आपके शरीर का तापमान बढ़ाते हैं और 102 डिग्री फ़ारे से ऊपर का कोई भी तापमान बच्चे के लिए हानिकारक है।

4. तनाव से बचें

यह मिथ कहता है कि जो महिलाएं स्ट्रेस लेती हैं वे गर्भ धारण नहीं कर सकती। यह कुछ हद तक इस मायने में सच है कि जब आप स्ट्रेस रेहती हैं, तो प्रजनन क्षमता कम हो जाती है क्योंकि हार्मोन सही मात्रा में उत्सर्जित नहीं होते हैं| तनाव हार्मोन उत्पादन को रोकता है। तनाव से संबंधित एक और मिथ जो सच है कि फ़ीटस के लिए तनाव खराब है। आपका बच्चा तनाव को महसूस कर सकता है और यह उसकी मानसिक विकास के लिए बुरा है।

5. हैलो चॉकलेट

चॉकलेट को प्रेगनेंसी के लिए अच्छा कहा जाता है, कई अध्ययनों में चॉकलेट और अच्छा मूड के के बीच एक सीधा संबंध मिला है। चॉकलेट खाये, पर हद से ज्यादा खाना आपको नुकसान भी पहुंचा सकता है।

6. बाय बाय जिम

बच्चे के लिए व्यायाम हानिकारक है, यह गलत धारणा है I कार्य करना आपके बच्चे के लिए और साथ ही आपके लिए फायदेमंद है। यदि आप एक्टिव हैं और नियमित रूप से व्यायाम करती हैं, तो आपके बच्चे का दिल धीमी गति से धड़केगा जो उसके लिए बहुत अच्छा है|  यह गर्भावधि डायबिटीज को रोकने और पीठ दर्द और थकान से राहत देने में भी मदद कर सकता है, पर अपने चिकित्सक के निर्देशनुसार हलके फुल्के व्यायाम ही करें |

7. अंतिम संस्कार

यह एक आम धारणा है कि गर्भवती महिलाओं को बीमार लोगों से और उनके घरों से दूर रहना चाहिए। हालांकि मिथ कहता है की बुरी आत्माओं का साया हो सकता है वास्तविकता यह है कि आप जितना उस माहौल से दूर रहेगी आपके लिए अच्छा होग़ा| दुःख भरा माहौल आपकी मानसिकता पर असर डाल सकता है और किसी बीमार आदमी को देखने जाने पर हो सकता है कि आपको किसी तरह का संक्रमण हो जाये |

8. भूलना 

प्रेग्नेंट महिलाओं को वास्तव में अधिक भूलने की बीमारी होती  है, यह सिर्फ मिथ नहीं है इसे “मोनीशिया” या “प्रेगनेंसी ब्रेन” कहा जाता है। प्रेगनेंसी के दौरान अतिरिक्त हार्मोन निकलता हैं और इसलिए मस्तिष्क की क्षमता प्रभावित होती है। यह अवस्था सिर्फ गर्भावस्था तक ही आपको परेशान करेंगी इसलिए आप परेशान न हों |

9. वेदरमैन

मौसम प्रभावित लेबर सुनकर लगता है कि यह एक बेवकूफ़ी से ज्यादा कुछ नहीं पर वास्तव मैं ऐसा नहीं है । सच्चाई यह है कि वातावरण के दबाव में बदलाव लेबर रेट को प्रभावित कर सकते हैं |

10. कॉफी ब्रेक

मिथ है कि कॉफी आपको प्रेगनेंसी के वक़्त नहीं लेनी चाहिए, बिल्कुल सच है| कैफीन आप लगभग 200 मिलीग्राम (कम से कम सुरक्षित पक्ष पर) ले सकती हैं । इसका कारण यह है कि कैफीन आपके बच्चे के ब्लड सर्कुलेशन में प्रवेश कर सकती है, लेकिन आपके बच्चे का  मेटाबोलिज्म अभी  पर्याप्त रूप से विकसित नहीं है ।

इन तथ्यों को ध्यान में रखें जब आप खुद को गर्भवती पाती हैं इन तथ्यों की जानकारी आपके बड़ी काम आएंगी जो। लेकिन याद रखें कि जो कुछ भी आप सुनती हैं वह सत्य नहीं है। उदाहरण के लिए, आपको समुद्री भोजन से बचना चाहिए, यह एक मिथ है। वास्तव में, ओमेगा -3 फैटी एसिड कुछ समुद्री भोजन और मछली में मौजूद होते हैं, आपके बच्चे के लिए बहुत ज़रूरी होते हैं और बच्चे को समझदार बनाते हैं।

आप अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करती रहें और सुखद मातृत्व का अनुभव करें, यही हमारी कामना है!

Leave a Reply

%d bloggers like this: