apne-bacche-ke-aansuon-ki-vajah-samjhe

आपका बच्चा बड़ों की तरह बात नहीं कर सकता है, लेकिन वे ज़रूर अपने रोने और आंसुओं से बात करते हैं| ध्यान लगाकर पता किया गया है कि बच्चों का रोना 5 तरह का होता है| बच्चे अलग परिस्थतियों में अलग-अलग तरह से रोते हैं| भले ही आपको लगता है कि आप यह पहचानने में बहुत बढ़िया हैं, कुछ माता-पिताओं को कुछ गाइड से मदद अच्छी लगती है| उन माता-पिताओं के लिए यह गाइड बहुत लाभदायक रहेगा :

1. “मुझे भूख लगी है”

यह तब होता है जब वहअंगूठे चूसने के साथ एक तालबद्ध, रोना करता है। आपको इन चीजों पर जल्दी प्रतिक्रिया करनी चाहिए क्योंकि यदि आप ऐसा नहीं करते हैं, तो वह भोजन करते समय हवा को अंदर ले सकता है| इससे उसे और अधिक असुविधाजनक महसूस होता है|

2. “मुझे चोट लगी है”

एक बहुत तेज़, घबराहट वाली चीख इसका संकेत देता है कि बच्चे को चोट लगी है और वह कहीं पर अटका हुआ है| तुरंत उन्हें देखें कि उन्हें कोई चोट तो नहीं लगी है और अपने साथ बच्चे के लिए दवाई तैयार रखें| उन्हें चुप कराने के लिए, उन्हें अपनी गोद में उठाकर मीठी-मीठी बातें बोलें | माँ होकर, आपको पता चल जाएगा कि अपने बच्चे को चुप करवाने का सबसे बढ़िया तरीका कौन सा है|

3. “मुझे नींद आ रही है”

यह तब होता है जब बच्चा बहुत थक गया है लेकिन वह ठीक से सो नहीं पाया है | यह अपने देखा होगा जब कई सारे लोग आपके बच्चे को उठा रहे हों और वो थका हुआ हो| यह आप देखोगे जब बच्चा गोद में रो रहा हो और लोगों के हाथों में से निकलने की कोशिश कर रहा हो| आपको अपने बच्चे को एक शांत जगह पर ले जाकर, उन्हें सुलाना चाहिए|

4. “मैं बीमार हूँ”

यह हैं नाक से निकलने वाली चिल्लाहट,बीमार और असुविधाजनक मह्सूस करने की रोने की जैसी ही आवाज़ है| इनमे एक अंतर है यह भी है कि जब बच्चा बीमार हो तो वो लाल और थका हुआ नज़र आएगा| यह आप उनके तापमान को देख कर पता कर सकतें है |

5. “मैं थक गया हूँ”

एक कर्कट, नाक और उधम मचाने वाले रोने के लिए तैयार हो जाओ| वो शायद सबसे हटकर किसी शांत जगह पर चले जाये| वे अपने आँखों को पोंछेंगे, चेहरे को छिपाएंगे और रोते समय इधर-उधर हिलने लगेंगे|

बच्चे इतना ज़्यादा रोते हैं क्योंकि यही है उनके बात करने का माध्यम| इसलिए भले ही मुश्किल हो, कारण समझने की कोशिश करें| अपनेआप ज़्यादा दबाव न डालें क्योंकि रोने की वजह आपको तुरंत समझने में नहीं आएगी | थोड़ा समय दें और आपको जल्द ही अपने बच्चे को समझ पाएंगे और उनके सारे इशारे भी|

Leave a Reply

%d bloggers like this: