maao-ke-kuch-ananddayi-ultrasound-confessions

कुछ खट्टी मीठे अनुभवों के साथ गर्भावस्था एक काफी आनंददायी वक़्त होता है। यह पहला मौका होता है जब माँ बनने वाली महिलायें अपने शरीर में पल रहे अंश को पहली बार देख पाती हैं।  यहाँ उन पहली बार मातृत्व का एहसास करने वाली महिलाओं की पहली अल्ट्रासाउंड स्क्रीनिंग की कुछ शहद से मीठे अनुभवों का जिक्र है।

1. नंदिता

नंदिता कहती हैं कि गर्भावस्था तथा उससे जुड़े उत्साह का अनुभव वह उस तरह नहीं कर पा रहीं थीं जैसे होना चाहिए था। मार्निंग सिकनेस मुश्किल से महसूस हुआ और हर कुछ वैसे ही समान्य था जैसे बच्चा ठहरने से पहले। “पर अंततः जब मैंने अल्ट्रासाउंड कराया और मॉनिटर स्क्रीन पर देखा, मैं सहम सी गयी थी! मेरे पास शब्द नहीं थे और सब कुछ एक सपना सा लग रहा था”, नंदिता बताती हैं कि वह उसे उसे शब्दों में में बयां नहीं कर सकतीं जब उन्होंने अपने बच्चे की पहली झलक देखी थी।

2. रैचेल

“जब उस मशीन पर मुझे मेरे बच्चे की पहली तस्वीर दिखाई गई थी, मैं खुशी से भर उठी थी।” मैं मुश्किल से समझ पाई थी कि उसका आकार क्या है क्योंकि वो काफी छोटा था और अभी बढ़ रहा था पर सिर्फ यह एहसास कि यह मेरा होने वाला बच्चा है ,ने मेरे आँखों में आँसू ला दिए। जब हम उन पिक्चर्स की हार्ड काॅपी लेकर घर पहुंचे मैं झल्ली सी चारों तरफ उसे लिए घूम रही थी और परिवार के सदस्यों को दिखा रही थी।

3. फ्रेडी

“जब मुझे मालूम चला कि मैं गर्भवती हूँ तो मैं इन सबको लेकर थोड़ी जुनूनी हो गई। मैंने गर्भावस्था से संबंधित सारे पोस्ट इंटरनेट पर, किताबों में और जो कुछ भी मिला पढ़ना शुरू कर दिया। प्रक्रिया के बारे में पढ़ना और वास्तव में उन सब से गुजरना जादुई सा लग रहा था। यह एहसास कि मेरे अंदर एक नया जीवन पल रहा है, काफी आनंदित करने वाला था। और फिर अंततः अल्ट्रासाउंड का दिन आया। मैंने इसके बारे में भी काफी कुछ पढ़ा था और इसका इंतजार कर रही थी।” फ्रेडी कहती हैं कि हालाँकि उन्हें मालूम था कि पहले अल्ट्रासाउंड टेस्ट से क्या उम्मीदें रखनी चाहिए, और अस्पष्ट ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीर होने के बावजूद भी उस छोटे अम्बीलीकल काॅर्ड को देखने के लिए वे काफी उत्साहित थीं जिसने उनके बच्चे को उनसे जोड़ रखा था।

4. अनम

अनम बताती हैं कि अपनी पहली गर्भावस्था के पहले अल्ट्रासाउंड के लिए वे अपने पति के साथ गायनोकोलाॅजिस्ट के पास गई थीं। वो अपने बच्चे को स्क्रीन पर देखने के लिए काफी खुश थीं। वो कहती हैं, “जब मैं काॅर्ड दिखाने के लिए अपने पति की ओर मुड़ी, मैं कुछ बोल नहीं पाई बस एक अजीब सी मुस्कान लिए देखती रही। वो खुशी के मारे रो रहे थे और अपने भावनाओं को रोक नहीं पाए क्योंकि उन्हें यह एहसास हो गया था कि वो कुछ ही महीनों में पापा बनने वाले हैं।”

5. मीरियम

मीरियम अपने पहले अल्ट्रासाउंड के लिए अकेली ही गईं क्योंकि उनके ब्वॉयफ्रेंड को जाॅब के सिलसिले में अचानक बाहर जाना पड़ा था। पर उन्होंने टेक्नोलॉजी का लाभ उठाया और अपने बच्चे की पहली तस्वीर दोनों ने साथ देखी चूँकि मीरियम ने स्काइप पर उनसे संपर्क किया। वो कहती हैं कि वो दोनों ही अपने बच्चे को देखकर काफी खुश थे और पूरे वीडियो काॅल के दौरान वो मुस्कुराए या रोए, मुश्किल से ही कुछ बोल पाए।

6. सराह

मुझे पहले से ही पता था कि मैं गर्भवती हूँ और मैंने इस बारे में अपने पति को नहीं बताया। और फिर जब मैंने पहला अल्ट्रासाउंड कराया, मैंने पिक्चर लिया और उनके क्रिसमस के तोहफे के रूप में पैक कर दिया। शुरुआत में, उन्हें समझ नहीं आया कि यह क्या है, पर जब वो समझे, मुझे नहीं पता वो कितने वक़्त तक मुझे बाँहों में भरकर बैठे रहे | मैंने कभी उन्हें इतना खुश नहीं देखा था”।

7. जेनिफर

जेनिफर जब पहली बार प्रेगनेंट हुईं, उनका बच्चा जन्म लेने से पहले ही मर गया। इस बात से वो काफी दुखी और डिप्रेश हो गईं। दूसरी बार जब बच्चा ठहरा, उन्होंने स्वीकारा कि वो काफी डर गई थीं और वो बच्चे को बहुत ज्यादा चाहती थीं। पिछली दुखद घटना के बाद, वो पहले जैसी नहीं रह गई थीं, और एक डर हमेशा उन्हें घेरा रहता था। पर जिस दिन उन्होंने अपना पहला अल्ट्रासाउंड कराया, वो काफी खुश थीं कि वो अपनी पिछले सारे गम भूल गईं। उनके शब्दों में, “मैं बहुत भाग्यशाली महसूस कर रही थी, जब टेक्नीशियन ने मेरे बच्चे की पिक्चर मुझे दिखाई, मेरे रोएँ खड़े हो गए थे। मेरे लिए यह काफी आशान्वित करने वाला था और मैंने महसूस किया कि कुछ गलत नहीं हो सकता। मैं वह दिन कभी नहीं भूलूंगी।

हर माँ का अनुभव अलग होता है और हर बच्चा अपने आप में जादू से कम नहीं !

Leave a Reply

%d bloggers like this: