apne-bacche-ke-baat-karne-se-pehle-unse

आप सोंचती है कि आपका बच्चा आपके साथ बातचीत नहीं कर सकता जब तक कि वह चीजें बोलना शुरू न करे, लेकिन यह सच नहीं है। वास्तव में, वह एक नवजात बच्चा भी हो तो वह हर समय आपके साथ संवाद कर रहा होता है। इस संवाद को रोना कहा जाता है |वे आपको यह बताने के लिए रोते हैं कि उन्हें कैसा महसूस हो रहा है और वे क्या चाहते हैं। वे रोते हैं क्योंकि वे भूखे, प्यासे हैं, वे आपके छाती से लगना चाहते हैं, वे अब और नहीं खाना चाहते हैं और कई अन्य कारण। कोई बच्चा बिना कारण नहीं रोता है।

आपका बच्चा शरीर की भाषा के माध्यम से भी संवाद  करता है। शिशु परेशान हो जाते हैं जब उन्हें आराम नहीं मिलता और आपकी बाँहों  में आराम करते हैं |

 शिशु के कुछ सबसे सामान्य शरीर की भाषा है:

1. उबासी लेना, आंखों पर हाथ रखना, नींद भरी आंखें, नींद से भरी आंखें झपकाना : ‘मुझे नींद आ रही है’

2. मुंह खोलना: ‘मुझे भूख लगी है’

3. शरीर को चौड़ा करके आँख खोलना: ‘मैं खेलना और सीखने के लिए तैयार हूं’

4. अपने सिर को मोड़ना  या अपनी पीठ खड़ी करना: ‘नहीं धन्यवाद’

बहुत सारे माता-पिता अपने बच्चे से बात करना मूर्खता समझते हैं, लेकिन आप जो कुछ देख रहे हैं और कर रहे हैं, वो सब आपके बच्चे के विकास में मदद कर सकती है।

कुछ चीजें आप कर सकते हैं:

1. उनसे हंस कर बात करें !

आपका बच्चा आपकी आंखों को चमकता देख और आपकी आवाज़ सुनकर  बहुत खुश होगा |

2. आप क्या कर रहे हैं, इसके बारे में बात करें

उदाहरण के लिए, ‘हम आपको एक अच्छा गर्म स्नान देने जा रहे हैं आपको स्नान करना पसंद है, है ना? ‘किसी भी भाषा में बात करें जिसे आप चाहते हैं कि आपका बच्चा सीखे, या विभिन्न भाषाओं के बीच स्विच करें। यह सब आपके बच्चे को शब्दों और बातों के बारे में जानने में मदद करता है।

3. गाने गायें ये पोएम पढ़ें 

आपका बच्चा शब्द की लय से प्यार करेगा और आपकी आवाज़ उसे शांत करेगी।

4. किताबें पढ़ें और जन्म से ही अपने बच्चे को कहानियां सुनाना शुरू कर दें।

कुछ हफ्तों के बाद, आपका बच्चा समझ जाएगा कि यह तब होता है जब आप शांत, विशेष समय एक साथ गुज़ारते हैं। आपका बच्चा शब्दों को पहचानना शुरू करेगा और दूसरों के द्वारा बोली गयी बातों को सुनना सीखेगा |

5. बैबलिंग के दौरान अपने बच्चे की पहले कोशिश सुनें

अपने बच्चे को बोलने का कुछ समय दें जब उसकी बोलने की बारी आये | यह आपके बच्चे को बातचीत के प्रवाह के बारे में सिखाता है |

6. अपने आसपास के खिलौने और वस्तुओं को नाम दें

उदाहरण के लिए, ‘देखो, ये आपके मोजे हैं हम उन्हें अपने पैरों में पहनेंगे, है ना? ‘

चिंता ना करें अगर आपका बच्चा थोड़ी देर के लिए जवाब नहीं देता। प्रत्येक बच्चे अलग हैं और उन्हें बोलने   के लिए अपना समय चाहिए। हम पर भरोसा करें जब हम ये कहते हैं कि  एक बार आपका बच्चा बात करना शुरू कर देगा, वो इतनी ज़्यादा बातें करेगा कि आपको वो दिन याद आएंगे जब उसकी बोली  सिर्फ एक खिलखिलाहट हुआ करती थी |

Leave a Reply

%d bloggers like this: