ek-ghar-jisme-hai-paltu-jaanwar-tatha-pregnant-mahila

अगर आप खुद को एनिमल लवर मानती हैं तो आपको पालतू पशु को घर से हटाने की जरूरत तो नही होगी। परन्तु उन्हें सम्भालने के लिए कुछ परिवर्तन करने होंगे। इससे आप और आपका परिवार तथा शिशु सुरक्षित रहेंगे। पेट्स यानि पालतू जानवर से जुड़ी कुछ बातें आपको जाननी चाहिए।

1. क्या पशु महिला प्रेगनेंट हैं समझ जाते हैं?

जी हाँ। इसके लिए कोई वैज्ञानिक जानकारी तो नही है पर जानवरों में सूंघने, देखने और समझने की क्षमता इंसानों से ज़्यादा होती है। वे आपके बदले हाव-भाव, चाल-ढाल, उठने-बैठने से आपके अंदर के बदलाव को भाँप जाते हैं। कुत्तों में अपने मालिक के प्रति अधिक ज़िम्मेदारी की भावना आ जाती है। कभी कभार वे गर्भवती महिला के सोने के बाद उनके कमरे के बाहर पहरा देते हैं और अगर उनके पति कमरे में जाने की कोशिश करते हैं तो वे भौंकने लगते हैं।

2. पालतू जानवर के लिए एक स्थायी कूड़ादान बना दें

इस तरह पेट एक ही स्थान पर टॉयलेट करेगा। इससे अन्य जगहों पर गन्दगी नही होगी। आपको बार-बार पूरे घर की सफाई नही करनी पड़ेगी। बिल्लियों के मल से इंसानों में टोक्सोप्लास्मोसिस नामक भयंकर रोग फैल सकता है। यह रोग का कीटाणु महिला का प्लासेंटा पार करके शिशु तक पहुँच सकता है और उसे हानि पहुंचा सकता है। इसलिए हमें साफ़-सफाई का ध्यान रखना चाहिए।

3. बिल्ली का फर और बाल

शायद आप एनिमल एलर्जी के बारे में जानती होंगी। इसमें पशुओं के फर और बाल इंसान को साँस लेने में तकलीफ पहुंचा सकते हैं। अगर आपको साँस लेने में या खाना खाने में अचानक कोई असाधारण बात नज़र आये तो आप चिकित्सक से परामर्श करा सकती हैं।

4. पशुओं से फैलते विभिन्न संक्रमण और उनकी रोकधाम

अगर आपके घर में जानवर हैं तो आपको उन्हें साफ़ रखना चाहिए। नियमित रूप से उन्हें टीके लगवाएं। पशुओं के आँसू, थूक, मूत्र, मल, खून से दूर रहें और घर पर आने वाली कामवाली बाई से कहकर साफ़ करवाएं क्योंकि इनसे भी वायरस सम्बंधित रोग पैदा हो सकते हैं।

5. पशुओं द्वारा काटे जाने पर

इस स्थिति में आप फर्स्ट ऐड का इतेमाल करें। आप पीड़ित जगह को डेटॉल से साफ़ करें तथा उस पर एंटी-सेप्टिक क्रीम लगाएं। इसके बाद चिकित्सक से टीका लगवायें ताकि कोई अनचाहा रोग न हो।

6. शिशु और पालतू जानवर

घर पर पशु आपके नवजात शिशु को पकड़ सकते हैं या गाल,हाथ ,पैर की उँगलियाँ चाट सकते हैं। इन सब स्थितियों से बचने के लिए ही आप पशु और शिशु में थोड़ा दूरी बनाये रखें। दोनों को एक साथ अकेला न छोड़ें क्योंकि अचानक कुछ भी हो सकता है। आप दोनों को अपनी आँखों के सामने ही रखें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: