लड़के-का-गर्भ-कैसे-धारण-करें-अपने-पसंद-के-लिंग-का-शिशु-कैसे-धारण-करें-xyz

कुछ लोगों में लड़की तो कुछ में लड़के की चाह होती है। ऐसे में आप मन ही मन उसे पाने के लिए रास्ते ढूंढ़ती होंगी। वैज्ञानिक रूप से इन उपायों को सिद्ध तो नहीं किया गया है, परन्तु आप इन्हें आज़मा सकती हैं। शायद आपकी मनोकामना पूरी हो जाये।

शिशु का लिंग कैसे निर्धरित होता है?

पुरुष के वीर्य में दो तरह के क्रोमोज़ोम होते हैं। एक को x क्रोमोज़ोम कहते हैं और दूसरे को y क्रोमोज़ोम कहते हैं। कौन सा क्रोमोज़ोम वाला वीर्य मादा के अंडे (डिम्ब) से जुड़ता है यह होने वाले शिशु का लिंग तय करता है। मादा के अंडे में एक तरह के x क्रोमोज़ोम ही होते हैं। अगर पुरुष का x क्रोमोज़ोम वाला वीर्य मादा के x क्रोमोज़ोम वाले अंडे से जुड़ता है तो लड़की पैदा होती है। इसका मतलब है उसमें xx क्रोमोज़ोम होते हैं। इसके विपरीत अगर पुरुष का y क्रोमोज़ोम वाला वीर्य मादा के x क्रोमोज़ोम वाले अंडे से जुड़ता है तो लड़का पैदा होता है। उसमें xy क्रोमोज़ोम होते हैं।

लड़के का गर्भ कैसे धारण करें?

x क्रोमोज़ोम वाला वीर्य y क्रोमोज़ोम वाले वीर्य के मुकाबले, आकर में बड़ा व धीमी गति से चलता है। x क्रोमोज़ोम वाले वीर्य मादा के शरीर में अधिक देर तक ज़िंदा रह जाते हैं क्योंकि उनमें अधिक शक्ति होती है। इसलिए अगर आप लड़के की चाह रखती हैं तो आपको लड़के को जन्म देने वाले y क्रोमोज़ोम को मादा के शरीर में लम्बे समय तक टिकने के लिए प्रयास करना होगा।

आप यह कुछ उपाय अपना सकती हैं।

1. आप यौन क्रिया की पोज़ीशन बदलें

वैज्ञानिक कहते हैं कि पुरुष को महिला की योनि में अपना लिंग गहराई तक डालना चाहिए। इससे उनके वीर्य में पाये जाने वाले y क्रोमोज़ोम को महिला के गर्भाशय तक पहुँचने में मदद मिलेगी। आप कुत्ते की शैली में संभोग कर सकती हैं क्योंकि इससे वीर्य गर्भाशय ग्रीव (cervix) तक पहुंचेगा और उसको मादा अंडे से सम्मिलित होने में मदद मिलेगी। इस साथ ही इस अवस्था से वीर्य तेज़ गति से स्त्री के गर्भाशय तक तैरने लग जायेगा।

2. आप अपनी ओव्यूलेशन साइकिल यानि मासिक धर्म चक्र पर ध्यान दें

पुरुष का y क्रोमोज़ोम वाला वीर्य जल्दी व तेज़ी से तैरता है। इसलिए आपको मासिक धर्म के पहले दिन से 14 दिन बाद संभोग करना चाहिए। इस दौरान स्त्री का अंडा (egg) अंडाशय(ओवरी/ovary) में पूर्ण विक्सित होकर डिंबग्रंथि के मार्ग से होकर गर्भाशय तक नर के शुक्राणु से जुड़ने की उम्मीद में जा रहा होता है। आपके इस समय संभोग करने से पुरुष वीर्य को महिला की डिंबग्रंथि से निकले हुए अंडे तक पहुँचने में सहायता मिलेगी। अन्यथा उसका गर्भाशय तक जाना मुश्किल हो जाता है और अंडे से जुड़ना और भी कठिन हो जाता है।

3. पति के पहनावे पर ध्यान दें

अगर आपके पति घर में ढीले कच्छे यानि बॉक्सर पहनते हैं तो इससे नर वीर्य को फायदा होता है। क्योंकि पुरुष के लिंग तक हवा आसानी से पहुँचती है। इससे उनका लिंग ठंडा रहता है और उसमे शुक्राणु पैदा करने की छूट होती है। उसी जगह कसे हुए कपड़े शुक्राणु का विकास कम कर देते हैं। इसका कारण यह है की कसे हुए कपड़े लिंग तक हवा का संचार बंद कर देते हैं। कसा हुआ होने के कारण लिंग का तापमान बढ़ जाता है और शुक्राणु पैदा होना कम हो जाते हैं। तो आप ही तय करें की पतिदेव क्या पहनें?

4. महिला को पुरुष से पहले यौन संतुष्टि(orgasm) मिलनी चाहिए

ऐसा माना जाता है की स्त्री को कामोत्तेजना मिलने से उसकी योनि में खारा (अल्कलीन) पदार्थ पैदा होता है। यह केमिकल लड़के को जन्म देने वाले वीर्य को अधिक समय तक जीवित रखता है। सो आप संभोग का चर्मसुख पाने का प्रयास करें।

चाहे लड़का हो या लड़की, सब एक समान होते हैं। तो आप भगवान के दिए आशीर्वाद को अपना लें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: