kya-aapki-nanad-aapki-shaadi-par-prabhav

एक प्यारी दोस्त और सहयोग देने वाली ननद

यदि आप उन भाग्यशाली बहुओं में से एक हैं, जिनका ननद के साथ अच्छा रिश्ता हैं, तो आपको जल्द पता चल जाएगा कि उन्हें अपने साथ रखने के कई फायदे हैं। आपकी सास और ननद आपके पति को, किसीसे भी बेहतर जानतीं हैं| आपकी ननद आपके बातों को समझकर आपके पति को जब कोई सलाह देती है, तो वो आपके गृहस्थ जीवन को बेहतर बनाने में मददगार हो सकता है | एक अच्छी ननद आपके बच्चों के लिए एक प्यारी बुआ होगी, वो आपके लिए ऐसी मदद साबित होगी, जिनपर आप किसी इमरजेंसी में अपने बच्चे को छोड़कर ,निश्चिंत होकर जरुरी काम पर ध्यान दे सकतीं हैं | उनके साथ एक अच्छा और मज़बूत रिश्ता जिंदगी की हर तकलीफों में एक मज़बूत सहारे की तरह आपके साथ रहेगा |

विवादों को बढ़ाने वाली ननद

  अगर आपकी ननद और आपके पति के सम्बन्ध शुरू से अच्छे नहीं रहे है तो आपके परिवार पर इसका सीधा असर पड़ सकता है | बचपन में भाई बहन का सम्बन्ध कैसा है उसका आगे आनेवाली जिंदगी पर बहुत प्रभाव पड़ता है | इसका वर्णन चिकित्सक जिल सिडर के साइक सेंट्रल लेख में “भाई बहन का बचपन में हुए संघर्ष उनके व्यसक रिश्तों पर कैसा असर डालते है ?”में काफी अच्छे से किया गया है | असुरक्षा और असंतोष जो वह अपने भाई के प्रति बचपन में महसूस करतीं हैं, वो उन्हें आपके परिवार से सौहार्द्रपूर्ण रिश्ता बनाने से रोकता हैं । वह अब भी प्रतिस्पर्धा महसूस करतीं है ,और आज भी हमेशा खुद को साबित करने के होड़ में लगीं रहतीं है| अगर आपको उनकी इस भावना का पता लग जाये तो आप सही तरीकें अपनाकर उनका विश्वास जीत सकतीं है और अपना सम्बन्ध सुधार सकतीं हैं |

ईर्ष्यालु सिबलिंग

एक बहन के लिए यह बात पचाना मुश्किल हो जाता है कि उसके भाई को एक जीवन साथी मिल गया है और वह उसके साथ जीवन में आगे बढ़ गया है । अब उसे अपने भाई का उतना समय नहीं मिल पाता जैसा पहले मिलता था | उसे लगता है कि उसका स्थान भाभी ने छीन लिया है | इस तरह की ननद के साथ रिश्ते आसान करने के लिए ज़रूरी है कि आप उनसे बातें करे और उन्हें परिवार की गतिविधियों में शामिल करें | अपने पति को भी अपने बहन के साथ कुछ समय बिताने के लिए प्रोत्साहित करें |

रोबदार ननद

  यदि आपके पति की बहन जिनकी आदत परिवार के हर छोटे बड़े फैसले में अपनी राय देने की है और जिनका प्रभाव आपके पति पर बहुत ही ज्यादा है ,वे आपकी शादी होने के बाद भी ऐसा ही रोआब बनाये रखना चाहतीं है| ऐसी ननदें आपके परिवार के हर छोटी बड़ी चीज़ों में घुसी रहतीं है | यद्यपि उनका इरादा बुरा नहीं होता परन्तु उनका ऐसा व्यवहार आपके लिए तनावपूर्ण हो सकता है| इस तरह के व्यक्ति से निपटने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप न कहना सीख लें | मनोचिकित्सक मार्क बन्स्कीक ने अपने मनोवैज्ञानिक लेख “वयस्क बुलीज़” में सलाह दी है कि आप आत्मविश्वास के साथ नियंत्रित करनेवाले ऐसे लोगों को न बोलना शुरू करें |

ये एक ऐसा रिश्ता है जो जीवन भर आप के साथ जुड़ा रहेगा , इसे आप नज़रअंदाज़ नहीं कर सकती | जरुरत है थोड़ी सी समझदारी से इस रिश्ते को नया आयाम देने की| इसे जितना हो सके शेयर करें और दूसरी महिलाओं को उनकी ननद के साथ उनका रिश्ता सुधारने में मदद करें| 

Leave a Reply

%d bloggers like this: