garbhavastha-mei-back-pain

 

महिलाओं में गर्भावस्था में कई परिवर्तन आते हैं। इनमें से एक है उनकी पीठ में दर्द होना। इस पोस्ट में हम आपको पीठ दर्द से जुड़े सभी ज़रूरी मुद्दों के बारे में जानकारी देंगे। चलिए आगे पढ़ें।

क्या पीठ के निचले हिस्से में दर्द होना गर्भावस्था का लक्षण है ?

जी हाँ। गर्भावस्था की पहली तिमाही में सरदर्द होना आम बात है। यह शरीर में पोषक तत्वों या पानी की कमी का कारण हो सकता है।

गर्भावस्था में पीठ में दर्द होना सामान्य है?

गर्भावस्था के शुरुवाती लक्षणों में है पेट में माहवारी वाले दर्द होना, पेट भरा हुआ लगना, और गैस बनना। पीठ में दर्द होना भी आम बात है। यह माहवारी पेट दर्द की तरह ही लगता है।

पीठ के ऊपरी हिस्से में दर्द होने के कारण?

तीसरी तिमाही में पीठ के ऊपरी हिस्से में दर्द होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बढ़ते शिशु के कारण गर्भाशय का भार पीठ पर आने लगता है। यह शिशु के जन्म के बाद सामान्य हो जाता है।

गर्भवती महिलाओं में पीठ दर्द के अन्य कारण:

1. महिला का वज़न बढ़ना: महिला के बढ़ते वज़न के कारण उसकी रीढ़ की हड्डी पर प्रभाव पड़ता है जिससे पीठ में दर्द होता है।

2. महिलाओं में बदलते हॉर्मोन्स लेवल से पीठ में दर्द होता है।

3. मासपेशियों का अलग होना: जैसे गर्भाशय का आकार बढ़ता है उस प्रकार बदन की निचली मासपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इस कारण महिलाओं में पीठ दर्द होता है।

4. मानसिक तनाव: अक्सर महिलायें अपनी मुश्किलें अपने पति से या किसी और से कह नहीं पाती। इससे अंदर ही अंदर घुटने के कारण वह क्रोधित/परेशान होती हैं। उनके मन में दबे एहसास बढ़ते-बढ़ते उन्हें पीठ की पीड़ा के रूप में आते हैं।

पीठ के निचले हिस्से में दर्द के बावजूद कैसे सोएं?

नीचे दी गयीं अवस्था में महिलाएं सो सकती हैं:

i) जब आप साइड में लेटती हैं तो घुटनों के बीच पिलो रखकर सोएं। ऊपरी पैर तो निचले पैर पर आने से रोकें।

ii) जब आप पीठ के बल लेटी हैं तब घुटनों के नीचे पिलो रखकर सोएं।

हम कामना करते हैं की गर्म पानी से सेंकने, डॉक्टर की बताई दवाई लेने से आपको राहत मिले।

स्वस्थ्य रहे, मस्त रहें और हमारे ब्लोग्स शेयर करती रहें।

हम आपकी तकलीफ समझते हैं – हमारे साथ कमेंट में शेयर करें अपनी दिक्कतें – और इसे भी दूसरी माओं के लिए शेयर करें –

Leave a Reply

%d bloggers like this: