machliyon-ki-awaz-se-dimaag-ka-vikaas

अगर गर्भवती महिलाओं को डॉलफिन के पास खड़ा किया जाए और वो उन महिलाओं के पेट को अपनी नाकों से छू कर सहलाती हुई आवाज़ें निकालें तो इससे होने वाले बच्चे पर अच्छा प्रभाव पड़ता है. बच्चा उसकी आवाज़ें सुनकर उसे और सुनने की कोशिश करता है जिससे उसके सुनने की शक्ति बढ़ती है और उसमें हलचल आ जाती है.


यहाँ तक की अगर गर्भवती महिलाएं डॉलफिन के साथ तैरें तो उससे भी उनके आने वाले बच्चे पर अच्छा असर पड़ता है. तैरते समय डॉलफिन उनके पेट को छूते हुए गुज़रती हैं और इतना समय डॉलफिन के साथ पानी में रहने से ये ज़ाहिर है की वो आवाज़ें निकालेंगी जिससे होने वाली माओं और उनके आने वाले बच्चे दोनों को ख़ुशी और सुकून मिलेगा।


ये बात साबित हो चुकी है की कुछ आवाज़ों से बच्चे प्रभावित होते हैं और कुछ हरकत दिखाते हैं और इन्ही आवाज़ों पर निर्भर करता है की वो बच्चे का बचपना अच्छा गुज़रेगा या फिर उन आवाज़ों से उन्हें तकलीफ हुई होगी तो उनका बचपना भी दुःख भरा होगा।


ऐसी नयी बातें केवल हम ही आपको बताते हैं तो इस नयी चीज़ को आज़मा कर देखिये और शेयर कर के दूसरों तक भी इस बात को पहुचाइए!

Leave a Reply

%d bloggers like this: