video-janm-lete-hi-usne-mujhe-pehchan-liya

माँ और शिशु के बीच के अटूट रिश्ते को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता। माँ के लिए इससे बड़ा सुकून क्या होगा कि वह उन छोटी छोटी उँगलियों को अपने हाथों पर लें, उन नाज़ुक पैरों को देखे, और वह नाक जो माँ की ही देन है। यह वीडियो उस बंधन को दर्शाने के लिए है। आपने बहुत पढ़ा होगा की शिशु के साथ सम्बन्ध कैसे बनाएं, पर जनाब यह सम्बन्ध तो बहुत पहले बन जाता है।

9 महीने आपने शिशु को सांस से लेके खाना दिया। उनके पैदा होने के बाद भी वह आप पर उतने ही निर्भर होते हैं। आपको यह डर लगा रहता है कि कहीं समय के साथ आप शिशु से दूर न हो जाएं, पर यकीन मानिए आप उनके और करीब आ जायेंगे। यह रिश्ता है ही ऐसा।

वीडियो में शिशु को माँ के करीब रखा गया ताकि उन्हें एक – दूसरे का स्पर्श हो।

तुम्हें गर्भ से गोद में लाने वाला वह दिन

जब एक महिला को प्रसव होता है, वह बहुत व्यस्त हो जाती है। उनके दिमाग में भी नहीं आता की वह इन लम्हों को कैद कर ले। पर क्यों न यह ज़िम्मेदारी किसी और को दे दें। फिर चाहे वह बाहर से बुलाये गए फोटोग्राफर हों या घर के ही कोई सदस्य।

 यहाँ से मेरा सफर शुरू हुआ। सुबह के 3 बजे हैं। (उनकी योनि से पानी छूटने लगा ), जब मैं अस्पताल की तरफ जा रही थी।

 यहाँ मैं contraction से गुज़र रही हूँ।

 यहाँ मेरा पूरा परिवार साथ हैं

और मैं अपने पति से आपको मिलवाना कैसे भूल सकती हूँ

अब वह समय आ गया है की आप मिषा से मिलें

पर पहले की मिषा अपनी माँ से मिले, उसे बहुत सारे काम पूरे करने हैं

 और सफाई तो ज़रूरी है बच्चा – (मेरी परी के इन बालों को तो देखो )

दुनिया का सबसे अद्भुत लम्हा – जब हमने पहले बार एक दूसरे की आँखों में देखा

यह भी देखना कम अद्भुत नहीं था जब वह अपने पापा से मिली

यह तस्वीर सब बयां कर देगी। नौ महीने अपने गर्भ में रखने के बाद तुमसे मिलना – मेरे पास शब्द नहीं। जीवन भर का रिश्ता यहाँ बन चूका है।

आपका मैं हमारे परिवार की सबसे अद्भुत बात बताना चाहती हूँ। मिषा हमारी लिए एक करिश्मा थी। मैंने और मेरे पति ने सारी उम्मीद खो दी थी। इसके पहले हमने अपने 2 शिशुओं को खो दिया था। अब वह 6 महीने की हो चुकी है। वह एक बहुत ही खुशहाल जान है।

आप यह लम्हें समझते हैं तो ज़रूर शेयर करें   –

Leave a Reply

%d bloggers like this: