शिशु में दूध की उलटी होने से कैसे रोकें?

छोटे बच्चे जब दूध पीते हैं तो उसे उलट देते हैं। कभी कभी उन्हें दूध पाचन में दिक्कत आती है जिस कारण वे उलटी कर देते हैं। इसे रोकने के लिए यह क्यों होता है यह जानना बेहद ज़रूरी है ताकि आप इसकी रोकधाम कर सकें।

शिशु दूध को उलट क्यों देते हैं?

 

 

दरअसल बचपन में बच्चों का पेट पूर्ण विकसित नहीं होता है। इस कारण वह वाल्व(पेट द्वार), जो पेट में से खाने को बाहर आने से रोकता है, वह इतना मज़बूत और सक्षम नहीं होता है की जिससे खाने को अंदर रखा जा सके। जब बच्चों को खुराक से ज़्यादा दूध या खाना खिलाया-पिलाया जाता है तो न चाहते हुए भी भरे पेट से खाना बाहर आ जाता है और बच्चे दूध बाहर उलट देते हैं।

 

दूसरा कारण यह है की जब खाना पेट के बजाय श्वास नली में घुस जाता है तो बच्चा खांसता है और दूध बाहर निकाल देता है।

तीसरा कारण यह है जब बच्चे का पेट खराब है और खाना नहीं पचा पा रहा है तो उसे और खाना देना,शिशु के पेट पर अनचाहा दबाव बना देता है जिस कारण वे दूध की उलटी कर देते हैं।

चौथा बहुत महत्वपूर्ण कारण यह है की आप बच्चे को लिटा कर दूध पीला रही हैं। दरअसल बच्चों को खाना/दूध/पानी बैठा कर देना चाहिए वरना वे उसे ढंग से अंदर नहीं ले पाते और उन्हें उलटी हो जाती है।

दूध की उलटी कैसे रोकें?

चूँकि आपको इसके कारण समझ गई हैं तो :

1. बच्चे का पेट ख़राब होने पर उसपर दूध पीने का दबाव न डालें।

2. उसके आसपास नैपकिन रखें। शिशु को नैपकिन पहना दें गले पर ताकि उसका खाना इधर उधर न गिरे।

3. ध्यान रहे की शिशु के नैपी बहुत तंग/टाइट न हों। गले पर जकड़न होने से भी बच्चा दूध/भोजन निगल नहीं पाता और उसे उलटी/डकार हो जाते हैं।

4. शिशु को सही समय पर खुराक से। उलटे सीधे समय पर खाना देने से भी आपका शिशु उलटी कर सकता है।

इस पोस्ट को अन्य अभिभावकों के संग शेयर करें। अपने बच्चे का ख्याल रखें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: