प्रेगनेंसी में पेट में दर्द क्यों होता है? इसके उपाय

 कई महिलओं को गर्भवती होने के बाद से पेट में दर्द महसूस हो सकते हैं। इस लेख में हम आपको इसके कारण और उपचार बातएंगे।

गर्भावस्था में पेट दर्द कैसा महसूस होता है?

महिला को ऐसा महसूस होगा की कोई उसके पेट में खंजर भोंक रहा हो। बैठने, चलने में असहजता महसूस हो सकती है। कभी कभी कुछ गतिविधियों के कारण पेट दर्द बढ़ सकता है।

पेट दर्द के कारण

 

गर्भावस्था के शुरुवाती दौर में महिलाओं में पेट दर्द होना उनके शरीर में आते हुए प्राकृतिक हॉर्मोनल परिवर्तन के कारण होता है। कुछ महिलाओं में दर्द के साथ साथ थोड़ा रक्त स्त्राव भी हो सकता है क्योंकि यह शिशु का माँ के गर्भाशय से जुड़ने का प्रतीक है।

1. गर्भाशय के आकार बढ़ना

जब गर्भाशय खिंचता है तब उसकी मांसपेशियों में दर्द हो सकता है।

2. पेट में गैस होना

गैस बनने से पेट में दर्द होना शुरु हो जाता है।

3. पेट साफ़ न होना

जिन लोगों को कब्ज़ की शिकायत होती है, उन्हें भी पेट दर्द की शिकायत होती है।

4. राऊंड लिगमेंट पेन

यह दूसरी तिमाही में होने वाला दर्द होता है। यह पेट में दर्द होने का एहसास दिलाता है। यह दर्द का कारण यह है की गर्भाशय को जो मासपेशियां सहारा देती हैं, उनका खिंचना शिशु के बढ़ने के कारण से होता है।

5. एक्टोपिक प्रेगनेंसी

अगर आपको पेट के एक तरफ ही दर्द होता है, तो यह एक्टोपिक प्रेगनेंसी के कारण हो सकता है। इसमें शिशु गर्भाशय के बजाय फैलोपियन ट्यूब में बढ़ने लगता है। यह एक गंभीर समस्या है, इसके लिए आपको डॉक्टर से जल्द से जल्द इलाज करवाना चाहिए।

6. मिसकैरेज जो असफल है

अगर आपको मिसकैरेज होने वाला है, परन्तु हो नहीं पाया है इस कारण महिला के पेट में दर्द होता है।

पेट दर्द के अलावा अन्य लक्षण

 

 

i) महिला को बुखार, उल्टी, रक्तस्त्राव या फिर अजीब सा योनि स्त्राव होता है।

ii) आराम करने के बावजूद दर्द होता है।

iii) दर्द के कारण साँस लेने, चलने-फिरने में दिक्कत होती है

दर्द से निजात कैसे पाएं

डॉक्टरी परामर्श आपको कई अनचाही स्थितियों से लाभ दिलाएगा। किसी को खुद से कोई दवाई नहीं लेना चाहिए।

घर पर आप निम्नलिखित टिप्स अपना सकती हैं:

i) शरीर का आहिस्ता से खींचे, हाथ-पैर खींचें

ii) सोने और बैठने की अवस्था पर ध्यान दें

iii) सैर कीजिये

इस ब्लॉग को शेयर करें और अन्य महिलाओं को जागरूक करें।

 

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: