जानें क्या है दिवाली के पूजा का सही समय

दिवाली भारत की एक सबसे मुख्य त्योहारों में से एक है, न सिर्फ पूरे भारतवर्ष में बल्कि हर जगह इस त्यौहार को बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। आज छोटी दिवाली के साथ ही हर घर में फेस्टिव माहौल शुरू हो चूका है। दिवाली को बुराई पर अच्छाई की जीत का त्यौहार माना जाता है, दीयों की जगमनगहट अमावस्या के काली रात को भी जगमगा देते हैं। हर साल दिवाली में अमावस्या का भी एक निर्धारित समय होता है, इस बार अमावस्या दीवाली के दिन 19 अक्टूबर को रात को 00:13 से आरंभ होगा जो की 20 अक्टूबर रात को 00:41 तक रहेगा। 

दिवाली के दिन हम लक्ष्मी-गणेश और धन के देवता कुबेर की पूजा करते हैं। इस बार दिवाली 19 अक्टूबर, बृहस्पतिवार को पड़ रहा है और माना जाता है की दिवाली में माँ लक्ष्मी स्वयं घर में दस्तक देतीं हैं। हर साल दिवाली की पूजा का एक शुभ मुहूर्त होता है और हर साल की तरह इस साल भी दिवाली की पूजा का शुभ मुहर्त निकला है और कहा जा रहा है की इस बार का यह शुभ संयोग सात साल बाद आया है। इस बार पूजा का शुभ मुहूर्त प्रदोष काल में पड़ा है, दिन-रात के संयोग को ही प्रदोष काल कहते है और धर्म-शास्त्रों में भी इसका एक अलग महत्व है। इस बार प्रदोष काल शाम 5.43 से शुरू होगा जो की रात 8.16 तक रहेगा। और पूजा का शुभ समय शाम 7 बजे से रात को 8:16 तक रहेगा जिसमें लोग सुख-समृद्धि की कामना से लक्ष्मी, गणेश और कुबेर का पूजन कर सकेंगे।

पूजा को प्रारम्भ से अंत तक पूरी श्रद्धा और नियम के साथ करें, माँ लक्ष्मी और भगवान गणपति का आशीर्वाद आपको अव्शय मिलेगा और आपका घर सुख-समृद्धि से सदा भरा रहेगा।

हैप्पी एंड सेफ दिवाली !

Leave a Reply

%d bloggers like this: