ये दो वक़्त बना देंगे पति-पत्नी के रिश्ते को और गहरा

   शादी एक बहुत ही पवित्र रिश्ता होता है यह एक ऐसा बंधन है जिसमें बंधने के बाद दो लोग एक हो जाते हैं। उनके सुख-दुःख सब एक होते हैं, जब एक जोड़ा विवाहित जीवन में प्रवेश करता है तो उनकी बहुत सी इच्छाएं और कल्पनाएँ होती है। पर शादी के बाद घर की ज़िम्मेदारियाँ और ऑफिस के कामों में कपल इतने व्यस्त हो जाते हैं की उनके पास एक दूसरे के लिए भी वक़्त नहीं होता। यह तब और ज़्यादा मुश्किल हो जाता है जब दोनों लोग वर्किंग हो। एकदूसरे को वक़्त देना एक विवाहित जीवन को काफी सुखमय बनाता है अगर आप काम की वजह से अपने पार्टनर के साथ वक़्त नहीं बिता पा रहे हैं तो कोशिश करें पूरे दिन का दो वक़्त ‘सुबह‘ और ‘रात’ उनके साथ ज़रूर बिताये। थोड़े देर के लिए ही सही पर उनके करीब जाकर उनको फील कराये की वो आपके लिए कितने स्पेशल हैं। इसलिए प्लान करें अपना ‘वी टाइम’ जो की सिर्फ आपका और आपके पार्टनर का वक़्त हो और इसको अपना डेली रूटीन बना लें, की चाहे कुछ हो जाए ये वक़्त सिर्फ आप दोनों का है

 

 

 दिन की शुरुआत करें प्यारी सी गुड़ मॉर्निंग से

 

   सुबह-सुबह अपने पार्टनर की दिन की शुरुआत एक प्यारी सी गुड़ मॉर्निंग किश से करें। उन्हें ये एहसास दिलाएं कि वो आपके लिए कितने खास हैं। इससे आपके पार्टनर को भी अच्छा लगेगा और उनको ये एहसास होगा की आप सुबह उठकर सबसे पहले उनको ही याद करते हैं। ये सिर्फ पत्नियों के लिए ही नहीं बल्कि पतियों के लिए भी है। अपने पत्नी के दिन की शुरुआत एक प्यारी सी गुड़ मॉर्निंग विश से करें। पति या पत्नी में से जो भी पहले उठे वो अपने पार्टनर के लिए पसंदीदा नाश्ता बनाकर उनके साथ अपने भी दिन की शुरुआत करें। नाश्ता पूरे दिन का एक सबसे महत्वपूर्ण आहार होता है और यह तब और स्पेशल हो जाता है जब आपका पार्टनर आपके साथ हो, इसलिए नाश्ता साथ ही करने की कोशिश करें। अगर आप कभी-कभी सुबह उठने में असमर्थ हो तो नाश्ते का कुछ इंतज़ाम रात को ही कर के रख दें। ताकि सुबह उठकर भागा दौड़ी न हो और आप आराम से कुछ पल साथ बैठकर अपना टाइम अपने पार्टनर के साथ बिता सकें। और उनके निकलने से पहले उन्हें ‘नाइस डे’ विश करना न भूलें।

कोशिश करें रात का डिनर साथ करने की

  दिनभर के बाद जब आप और आपके पार्टनर रात को मिलें तो एक दूसरे के दिनभर की बातों के बारे में ज़रूर पूछें इससे केयर की फीलिंग झलकती है। कोशिश करें की पति-पत्नी साथ में ही डिनर करें और डिनर टेबल पर पूरे दिनचर्या के बारे में, कुछ और अगर कुछ खास बात हुई, या पोस्टिव-नेगेटिव बातों के बारे में बातचीत करें। और सिर्फ पत्नियां ही नहीं बल्कि पति भी अपने पत्नियों के दिनचर्या पर बात करें अगर उन्हें कुछ परेशानी हुई या कुछ और बात भी हुई हो उन सब चीज़ों के बारे में बातचीत करें क्यूंकि अगर पति बाहर जाकर काम करते हैं तो पत्नियां भी घर पर रहकर पूरे दिन घर की, घर के लोगों की और यहां तक की आपकी भी पसंद-नापसंद का ध्यान रखतीं हैं। इसलिए आपका भी फ़र्ज़ बनता है की आप भी उनको और उनके ज़िम्मेदारियों का सम्मान करें। और खाना खाने के बाद अगर कुछ किचन की छोटी-छोटी चीज़ें करनी हो तो पति-पत्नी दोनों को साथ में मिलकर वो काम करने चाहिए जिससे काम जल्दी ख़तम होंगे और आप दोनो एकदूसरे के साथ ज़्यादा वक़्त बिता सकेंगे। अगर पति-पत्नी डिनर करने से पहले भी कुछ वक़्त बिताना चाहते हैं तो पत्नियां कोशिश करें की रात का डिनर आप शाम को ही बना लें और कभी-कभी पति कोशिश करें की रात का खाना बाहर से ही ले आएं। इससे एक चेंज भी मिलेगा क्यूंकि कभी-कभी ऑफिस के बाद बाहर डिनर करने जाना मुश्किल हो जाता हैं इसलिए घर पर ही डिनर ले आएं और रेस्टोरेंट के शोरशरावों से दूर अपने घर में इत्मीनान से डिनर करें। इन सबके बाद अपना एक बेड टाइम बना लें जब आप दोनों सारे प्रोब्लेम्स और पूरी दुनिआ को भूलकर बस एक दूसरे के साथ को एन्जॉय करें। बेड टाइम में एक-दूसरे के और करीब आएं कुछ रोमांटिक टाइम या अपने दिल की बातें एकदूसरे से शेयर करें। एक दूसरे की तारीफ, एक दूसरे के साथ बिताया हुए पल या पहली मुलाकात को याद कर के अपने बेड टाइम को और खास बना लें।

ये थे वो महत्वपूर्ण पल जब पति-पत्नी एक-दूसरे को वक़्त दे सकते हैं, इनको भी अपने डेली रूटीन का हिस्सा बना लें और अपने रिश्ते को और गहरा बना लें। 

एन्जॉय योर वी टाइम !

Leave a Reply

%d bloggers like this: