सर्दियों में अधिक भूक क्यों लगती है- जानिये

ठंड में बार-बार भूक क्यों लगती है?

जैसे ही ठंड शुरू होती है आपको बार-बार खाना खाने के बाद भी भूक लगती रहती है, क्या आपको पता है की सर्दी के मौसम में अधिक भूक लगती है| आइये हम बताएं आपको इसका कारण:

आपके दिमाग का एक हिस्सा जिसे हाइपोथैलेमस कहते हैं वो आपकी भूक को कंट्रोल करता है| उसका ‘लैटरल हाइपोथैलेमस’ हिस्सा आप में खाना खाने की इच्छा प्रकट करवाता है और ‘वेंटरो मेडियम हाइपोथैलेमस’ हिस्सा आपको भूक लगने पर संकेत भेजने का काम करता है|

शरीर के ‘बेसल मेटाबोलिक रेट’ बढ़ने के कारण आपकी भूक और अधिक बढ़ जाती है क्योंकि आप जो भी खाती हैं वो जल्द ही पच जाता है और इसके कारण आपको थोड़े-थोड़े वक़्त पर भूक लगती रहती है| जब आपका खाना पच जाता है तो आपका ब्लड शुगर कम हो जाता है और आपके खून में मौजूद ‘ग्लुकोस्टेटिक रिसेप्टर्स’ आपके लैक्टेल हाइपोथैलेमस शुगर के घटने का संकेत देते हैं| शरीर में चीनी की मात्रा कम होने के कारण आपको अधिक भूक लगती है|

ये BMR क्या होता है?

बेसल मेटाबोलिक रेट(BMR) वो है जिसके द्वारा पता चलता है की आपका शरीर आराम करते समय सांस लेने के लिए कितना एनर्जी का प्रयोग कर रहा है| खुदको गरम रखने के लिए पर सांस लेते रहने के लिए आपका शरीर जितना एनर्जी का प्रयोग करता है उसे BMR कहते हैं|

क्या खाएं?

इन सर्दियों के दिनों में अधिक मात्रा में प्रोटीन और फाइबर से युक्त खाना खाएं और साथ ही ड्राई फ्रूट भी खाएं| क्योंकि काजू, बादाम और पिस्ता खाने से वज़न बढ़ते हैं, इन खानों को थोड़ा संभल के खाना चाहिए|

वज़न क्यों बढ़ता है?

बहुत से लोग शिकायत करते हैं कि भूख में वृद्धि के कारण वजन में वृद्धि हुई है यदि सर्दियों में प्रत्येक शरीर की जरूरतों के अनुसार भोजन लिया जाता है, और इसके साथ नियमित व्यायाम में वृद्धि नहीं होगी। लेकिन सामान्य से भी भूख के बाद भी खाना बढ़ाना संभव नहीं होगा। भूख खाने के साथ-साथ वजन को नियंत्रित करना भी संभव है लेकिन आप जो खाते हैं वह बहुत महत्वपूर्ण है|

बहुत से लोग शिकायत करते हैं की ठंड के वक़्त उनकी बढ़ती भूक के कारण उनका वज़न भी बढ़ जाता है| हमारी सलाह है की आप अपनी भूक को ना रोकें बल्कि जितना आप खा रही हैं साथ में उतना ही व्यायाम भी करें ताकि अधिक खाना खाने से आपके शरीर पर उसका बुरा प्रभाव ना पड़े| अपने वज़न और अपनी भूक को काबू करना आसान होता है लेकिन आप क्या खाती हैं वो ज़्यादा महत्व रखता है|

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: