क्यों डिलीवरी के बाद टॉयलेट जाना एक असहज अनुभव होता है- जानिये

क्यों डिलीवरी के बाद टॉयलेट जाना एक असहज अनुभव होता है- जानियेअगर आप सोचती है कि गर्भावस्था का सबसे मुश्किल भाग शिशु को जन्म देना है, तो हमारे पास आपके लिए अहम जानकारी है। अधिकतर महिलाऔं ने माना है कि प्रसव के बाद पहली बार शौच जाना उनके लिए असहज अनुभव था| क्या आप भी इसके लिए तैयार नहीं है, तो फिक्र मत किजिए, हम आपको कुछ सुझाव देंगे जिन्हें ध्यान में रखकर आप टायलेट सीट का सामना कर सकती है–

1. शौच जाने में देर ना करें– शौच जाना ना टालें क्योंकि देरी करने से मल और सख्त होगा जिससे आपको अधिक तकलीफ होगी। कई अस्पतालों में नियम है कि प्रसव के बाद बिना पहली बार मल त्याग किए बिना आपको अस्पताल से छुट्टी नहीं मिलती। कई अन्य महिलाओं ने माना है कि इस दौरान अस्पताल में रहना ही उचित है, यह नियम से अधिक एक सुझाव है।

2. स्टूल साफ्टनर का इस्तेमाल करें– प्रसव के बाद स्टूल साफ्टनर लेना शुरू कर दें ताकि कब्ज़ ना हो व आप आसानी से मल त्याग कर सकें, इससे आपको बहुत मदद मिलेगी।

3. कुछ खाद्य पदार्थों का परहेज करें– जो खाद्य पदार्थ आसानी से नहीं पचते ,उनका सेवन ना करें, क्योंकि इससे कब्ज की समस्या उत्पन्न होती है| कब्ज़ के कारण यह प्रक्रिया और कष्टप्रद हो सकती है । इसलिए सुपाच्य भोजन का ही सेवन किजिए।

4. कुछ प्रमुख दवाइयों का सेवन करें– आप को कुछ दवाइयों की भी जरूरत पड़ सकती है जिसे आप अपने डॉक्टर की सलाह पर किसी भी नजदीकी दवाई की दुकान से खरीद सकती है |इसे एक पैड में सोख कर ठंडा कर आप इसका इस्तेमाल कर सकती है, इससे आपको आराम मिलेगा।

किसी भी दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें |

5.डॉक्टर से मिलने से ना शर्माएं – अगर प्रसव के बाद पहली बार या एक हफ्ते तक मल त्याग करने में समस्या आ रही हो तो बिना हिचकिचाएं डॉक्टर से मिले व सही देखरेख में इस समस्या से छुटकारा पाएं।

यह सही है कि डेलिवरी के बाद कुछ समस्याओं से आपको जूझना पड़ सकता है ,पर घबराएं नहीं आज के मेडिकल साइंस में आपके लिए हर तरह की सहायता और सुझाव है ,जो झट से आपकी परेशानियों को आपसे दूर कर देंगे | 

Leave a Reply

%d bloggers like this: